अब राज्यसभा सदस्य अपनी मातृभाषा में संसद की कार्यवाही में हिस्सा ले सकेंगे
No icon

अब राज्यसभा सदस्य अपनी मातृभाषा में संसद की कार्यवाही में हिस्सा ले सकेंगे

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। राज्यसभा के माननीय अब जुबान में सदन की कार्यवाही में हिस्सा ले सकेंगे। ताकि उन्हें अपनी बात कहने में भाषा कहीं आड़े न आने सके। इसकी पहल 18 जुलाई से शुरु हो रही संसद के शीतकालीन अधिवेशन सत्र से होगी। संविधान की आठवीं अनुसूची में दर्ज सभी 22 भाषाओं में राज्यसभा के सदस्य अपनी बात कह सकते हैं। इसके लिए राज्यसभा सचिवालय ने पूरा बंदोबस्त कर लिया है।

Comment As:

Comment (0)