custom baseball jerseys  दुनिया के 6 ऐसे खतरनाक पुल, जो अपनी बनावट और रोमांच के लिए हैं मशहूर
No icon

दुनिया के 6 ऐसे खतरनाक पुल, जो अपनी बनावट और रोमांच के लिए हैं मशहूर

आज हम आपको रूबरू करा रहे हैं दुनिया के ऐसे 6 पुलों से, जो अपनी बनावट, ऊंचाई और कारीगरी का बेजोड़ नमूना हैं। इन पर गुजरने भर से ही इंसान रोमांच से भर उठता है। कुछ तो ब्रिज ऐसे हैं, जिस पर से अगर नीचे देखा जाए तो डर के मारे हालत खराब हो जाती है, चक्कर आने लगता है। ऐसे पुलों को देखने के लिए दुनियाभर से लोग आते हैं। इन पुलों को देखने का एक अलग ही रोमांच है। आइए चलते हैं दुनिया के इन खतरनाक और रोमांच से भरे पुलों की सैर पर...

1. मिलौ विडक्ट ब्रिज, फ्रांस- इसे दुनिया का सबसे ऊंचा ब्रिज होने का दर्जा प्राप्त है। इसकी ऊंचाई का अंदाजा आप इससे ही लगा सकते हैं कि यह एफिल टावर से भी 132 फीट (40 मीटर) ऊंचा है। इसकी ऊंचाई 343 मीटर है। यह टार्न घाटी के ऊपर बना हुआ है। इसे आधुनिक इंजीनियरिंग की नायाब उपलब्धि माना जाता है, यह अपने आधुनिक डिजाइन के लिए जाना जाता है। इसके निर्माण की शुरुआत अक्टूबर 2001 में हुई थी, यह लगभग 3 साल में बनकर तैयार हो गया। इसे दिसंबर 2004 में आम लोगों के लिए खोल दिया गया। इसके निर्माण में 24 अरब 94 करोड़ रुपये से अधिक की लागत आई। टार्न घाटी में ट्रैफिक की समस्या से निजात दिलाने के लिए इसका निर्माण किया। 

2. ट्रिफ्ट ब्रिज, स्विट्जरलैंड- 100 मीटर ऊंचे और 170 मीटर लंबे इस संकरे ब्रिज का निर्माण 2004 में हुआ था। यह ब्रिज आल्प्स पर्वत पर ट्रिफ्टसी झील के ऊपर बना हुआ है। खास बात यह है कि इसे पैदल यात्रियों के लिए बनाया गया है। इस ब्रिज पर चलने के लिए आपका दिल मजबूत होना चाहिए। ट्रिफ्ट ग्लेशियर को देखने के लिए हर साल वहां 20000 पर्यटक जाते हैं। हालांकि, 2009 में इस पुल में कुछ सुधार किया गया। 

3. रॉयल गॉर्ज ब्रिज, कोलोराडो- अर्कांसस नदी के ऊपर 955 फीट की ऊंचाई पर बना यह अमेरिका का सबसे ऊंचा सस्पेंशन ब्रिज है। 1929 से 2001 तक इसके नाम दुनिया के सबसे ऊंचे ब्रिज होने का रिकॉर्ड था, लेकिन 2001 में चीन के लियूगुआंग ब्रिज के बनने से यह रिकॉर्ड इससे जाता रहा। हालांकि, 2012 तक यह दुनिया के 10 सबसे ऊंचे ब्रिज में शुमार हुआ करता था। इसका निर्माण 1929 में महज 6 महीने जून से नवंबर के बीच हुआ।उस समय इस पर 3 लाख 50 हजार अमेरिकी डॉलर खर्च आया था। 

Comment As:

Comment (0)